Art Integrated by Class 3

शिक्षार्थियों के सृजनात्मक क्षमता के विकास में कला की अहम भूमिका है। कला न सिर्फ उनकी संवेदनाओं को झकझोरती है बल्कि अन्य विषयों के ज्ञान को प्राप्त करने तथा उन्हें समझने का बहुपरिप्रेक्षीय नजरिया भी सुझाती है। विद्यालयी शिक्षा में कला की भूमिका न सिर्फ एक विषय के रूप में है ,बल्कि रोचक शिक्षण प्रक्रिया के रूप में भी है। माध्यम के रूप में सीखने की रोचक प्रक्रिया में कला समेकित शिक्षा की भूमिका अति महत्वपूर्ण है।

Art and Integrated by Class 8th Students

Through Art integrated learning,the teacher has taught students about the structure of paramacium (microorganism). Students were encouraged to create its organelles by clay and some other materials.The parents of the children were also happy as their wards were working hard under the able guidance of the teachers of Jimp Pioneer School.Arts Integrated Learning helps the learners to develop creative problem-solving skills, motor skills, language skills, social skills, decision-making, and inventiveness. This activity also took place for class 12 th. In this activity two hydro electric power plants were discussed.

जिम्प पायनियर स्कूल पितांबरपुर आर्केडियाग्रान्ट,देहरादून में स्व0 इंदरमणि बड़ोनी जी के जन्मदिवस को बड़े धूमधाम से मनाया गया | कार्यक्रम का शुभारंभ स्व0 इंदरमणि बड़ोनी जी की तस्वीर पर माला चढ़ा कर किया गया व स्थानीय लोक भाषा पर गीत गायन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया| प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडे ने कहा कि हमें हमेशा अपनी संस्कृति का हमेशा सम्मान करना चाहिए|

Swachhta Pakhwada 2020

तेजस्वी सम्मान खोजते,

नहीं गोत्र बतलाकर।

पाते हैं जग से प्रशस्ति,

अपना करतब दिखलाकर।

राष्ट्रकवि रामधारी सिंह दिनकर की लिखी यह कविता एनसीसी कैडेट्स के कार्यों को चरितार्थ करती है ।

दिनांक 1 दिसंबर 2020 से 15 दिसंबर 2020 तक चलने वाले ‘स्वच्छता पखवाड़े ‘ के अंतर्गत जिंप पायनियर स्कूल पीतांबरपुर आरकेडिया -ग्रांट प्रेम नगर देहरादून के एनसीसी कैडेटों ने पीतांबरपुर बनियावाला क्षेत्रों में रैली निकालकर क्षेत्रवासियों को स्वच्छता अपनाने के प्रति जागरूक किया।

एनसीसी कैडेटों ने पीतांबरपुर व बनियावाला क्षेत्रों में सफाई की तथा गंदगी के नुकसान के बारे में क्षेत्रवासियों को बताते हुए स्वच्छता के लाभ बताए।

जिंप पायनियर स्कूल में नियुक्त एएनओ लेफ्टिनेंट शालिनी वर्मा के नेतृत्व में ‘स्वच्छता पखवाड़ा’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। ‘स्वच्छता के लाभ’ विषय पर निबंध लेखन कराया गया तथा ‘प्लास्टिक वेस्ट मैनेजमेंट’ विषय पर एक सेमिनार का आयोजन किया गया। स्वच्छता पखवाड़े के अंतिम दिन कैडेट्स ने अपने-अपने अनुभवों को अन्य कैडेट्स के साथ साझा किया।

Aparna Paniuly Student of Jimp Pioneer School Qualified NEET

रुकना नहीं पथिक राहों में,

यदि लक्ष्य को अपने पाना है,

अंगारे हो या हो पत्थर,

आगे ही बढ़ते जाना है।

तपता सूर्य कभी न थकता,

जग में करता उजियारा,

लक्ष्य सूर्य का भी होता है,

मिट जाता सब अंधियारा।

कहते है कि प्रतिभा किसी सुविधा या पैसों की मोहताज नहीं होती। यदि मन में लक्ष्य प्राप्त करने की सच्ची लगन हो तो विपरीत परिस्थितियों में भी बड़े से बड़ा मुकाम हासिल किया जा सकता है। जिंप पायनियर स्कूल पीतांबरपुर आरकेडिया-ग्रांट प्रेमनगर देहरादून उत्तराखंड की एक प्रतिभावान छात्रा अपर्णा पैन्यूली ने पारिवारिक प्रतिकूल परिस्थितियों होने के बावजूद संकल्प ,सद्भावना ,सद्गुणों के साथ कठिन परिश्रम करके नीट परीक्षा 2020 में उत्कृष्ट परीक्षा परिणाम हासिल कर इस बात को सच साबित कर दिखाया है।

अपर्णा पैन्यूली ने नीट परीक्षा 2020 में 579 अंक हासिल किये और वीर चंद्र सिंह गढ़वाली मेडिकल एंड रिसर्च इंस्टीट्यूट श्रीनगर गढ़वाल उत्तराखंड में एमबीबीएस कोर्स में प्रवेश पाने में सफलता प्राप्त की।

इस अवसर पर जिंप पायनियर स्कूल मैनेजमेंट अपर्णा पैन्यूली के लक्ष्य के प्रति समर्पण, कठिन परिश्रम, आज्ञा- कारिता ,अनुशासित जीवन, मानसिक एकाग्रता और सकारात्मक सोच आदि गुणों को अन्य विद्यार्थियों के लिए प्रेरणास्रोत मानकर अपर्णा पैन्यूली को बधाई देता है और उसके उज्जवल भविष्य की ईश्वर से कामना करता है साथ ही छात्रा के माता-पिता व शिक्षक- शिक्षिकाओं के द्वारा मन- वाणी और कर्म की एकनिष्ठता के आधार पर मजबूत संकल्प के साथ दिए गए उचित मार्गदर्शन पर अनंत शुभकामनाएं प्रेषित करता है।

सद्भावनाओं सहित

प्रधानाचार्य

जिम्प पायनियर स्कूल

पीतांबरपुर आरकेडिया-ग्रांट

प्रेमनगर देहरादून

Art Integrated

जिंप पायनियर स्कूल पितांबरपुर आरकेडिया-ग्रांट देहरादून में सीखने- सिखाने की प्रक्रिया में कला समेकित शिक्षा का समावेश किया गया है जिससे बच्चों के लिए विषयों को समझना रुचिकर हो रहा है साथ ही शिक्षक -शिक्षिकाओं के लिए उनकी कक्षा बाल केंद्रित  व आनंददायक हो रही है ।कला समेकित शिक्षा बच्चों को कई तरह के कौशल और क्षमताओं का उपयोग करने में सक्षम बनाती है।

Aim of NCC at JIMP PIONEER SCHOOL

Aim of NCC at JIMP PIONEER SCHOOL.
1. To Develop Character, Comradeship, Discipline, Leadership, Secular Outlook, Spirit of Adventure, and Ideals of Selfless Service amongst the students.

2. To Create a Human Resource of Organized, Trained and Motivated STUDENTS, To Provide Leadership in all Walks of life and be Always Available for the Service of the Nation.

3. To Provide a Suitable Environment to Motivate the STUDENTS to Take Up a Career in the Armed Forces.

NCC training 2020

Compulsory NCC training is imparted right from Class XI to XII where by our cadets grow to be disciplined, honest, patriotic, secular and wedded to the national cause transcending all barriers of caste, creed and language. The School has an Independent Unit of NCC Senior Wing. All boys of classes XI and XII are required to attend Annual Training Camps at selected places during vacation. Selected CADETS are sent for Rock climbing and Advance Leadership courses.

Students told ways to avoid Covid-19 epidemic

जिम्प पायनियर स्कूल के विद्यार्थियों ने कोविड 19 महामारी से बचने के लिए पोस्टर बनाए जिसमें उन्होने इस महामारी से लड़ने के लिए निम्नलिखित उपाय बताये-
खांसी या छींक आने पर उसे हाँथ की बांह से कवर करें या एक टिसू से नाक और मुह को ढ़ककर छींकें, फिर उस टिसू को बंद कूड़े दान में फेंक दें।
नियमित रूप से खुद की सफाई पर ध्यान दें और घर की सफाई स्प्रे या पोंछे का उपयोग करके साफ करें।
फेसमास्क का उपयोग करें।
कम से कम 20 सेकंड के लिए अपने हाथों को बार- बार साबुन और पानी से धोएं, खासकर बाथरूम जाने के बाद; खाने से पहले; और अपनी नाक पोंछने के बाद, खाँसना, या छींकना।
अपने हाथों को बार-बार साबुन और पानी से कम से कम 20 सेकंड तक धोएं, विशेष रूप से बाथरूम जाने से पहले, खाने से पहले, और अपनी नाक पोंछने, खांसने या छींकने के बाद।”
जो लोग हाथ मिलाते हैं, या गले लगते हैं। ये ऐसे तरीके हैं जिनसे वह वायरस को फैला सकते हैं या उसकी चपेट में आ सकते हैं। इसकी जगह आप नमस्कार कर सकते हैं |
विद्यालय के प्रधानाचार्य ने बताया कि सही आहार से अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं और अधिक से अधिक
गाजर ,खुबानी ,हरी सब्जिया ,खरबूजा ,पालक ,बदाम, सोयाबीन ,मशरूम और गाय के दूध आदि का सेवन करें|