We at JIMP PIONEER SCHOOL celebrated BASANT PNCHAMI

We at JIMP PIONEER SCHOOL celebrated BASANT PNCHAMI.The school celebrated Basant Panchami, festival which marks the end of the winter season and onset of spring. The school was abuzz with the festive spirit. The celebrations commenced with the Saraswati puja, invoking the blessings of Goddess Saraswati for seeking knowledge and wisdom.

NCC cadets take out an awareness rally and show people signs and symptoms of deadly disease like cancer.

जिम्प पायनियर स्कूल पीतांबरपुर आर्केडिया-ग्रान्ट देहरादून के एनसीसी केडेटों ने आर्केडिया-ग्रान्ट देहरादून में जागरूकता रैली निकालकर लोगों को केंसर जैसी घातक बीमारी के लक्षण व उपचार बताये | जिम्प पायनियर स्कूल के एनसीसी केडेटों द्वारा किये जा रहे प्रयासों की आर्केडिया-ग्रान्ट वासियों ने बहुत प्रशंसा की | केडेटों ने बताया कि आधुनिक जीवन शैली और दोषपूर्ण खान-पान के चलते विश्वभर में हर साल लाखों लोग कैंसर जैसी बीमारी की चपेट में आ रहे हैं और असमय ही काल कवलित हो जाते है | आधुनिक विश्व में कैंसर एक ऐसी बीमारी है जिससे सबसे ज़्यादा लोगों की मृत्यु होती है। विश्व में इस बीमारी की चपेट में सबसे अधिक मरीज़ हैं। तमाम प्रयासों के बावजूद कैंसर के मरीजों की संख्या में कोई कमी नहीं आ रही है। इसी कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हर साल 4 फरवरी को विश्व कैंसर दिवस की तरह मनाने का निर्णय लिया ताकि लोगों को इस भयानक बीमारी कैंसर से होने वाले नुकसान के बारे में बताया जा सकें और लोगों को अधिक से अधिक जागरूक किया जा सकें।
इस अवसर पर जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने बताया कि आधुनिक जीवन शैली और खान-पान में मामूली सुधार कर, आसानी से इसकी चपेट में आने से बचा जा सकता है। बीमारी का शुरु में पता चल जाए और समय रहते लोग इसका उपचार शुरु करा दें, तो आसानी से बचाव संभव है।
  

Hearty congratulations

Dear Parent,

You will be glad to know that Garvit Sharma student of class-11 Commerce has been selected for state level vollyball team and Rohan Semwal student of Class-10 got first position in the District Level 3 kilometer Cross Country Race. Wishing you all the best for the future.We extend a heartfelt Congratulations on your excellent achievement. May God bless you with success and abundant happiness.

Regards

Jimp Pioneer School

Jimp Pioneer School students won medal at Khel Mahakhumbh

देहरादून में खेल महाकुंभ आयोजित किया गया था ,जिसमें जिम्प पायनियर स्कूल के कक्षा-11(वाणिज्य) के छात्र गर्वित शर्मा ने वालीबॉल अंडर -17 में कांस्य पदक हासिल कर तृतीय स्थान प्राप्त किया था और अब उसका चयन राज्य स्तरीय प्रतियोगिताओं हेतु चयनित खिलाड़ियों में हुआ है |इसी क्रम में  रोहन सेमवाल कक्षा-10 के छात्र ने जिला स्तरीय (अंडर 14 वर्ष) तीन किलोमीटर क्रॉस कंटरी रेस में भाग लिया व प्रथम स्थान प्राप्त किया| इन  उपलब्धियों  पर जिम्प पायनियर स्कूल  के विद्यार्थियों  व शिक्षक-शिक्षिकाओं तथा अभिभावकों द्वारा हर्ष व्यक्त किया गया | जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडे ने छात्र गर्वित शर्मा तथा रोहन सेमवाल उसके  शिक्षक-शिक्षिकाओं तथा अभिभावकों को शुभकामनाएँ  देते हुए कहा  कि जिम्प पायनियर स्कूल में विद्यार्थियों को एकेडेमिक गतिविधियों के साथ-साथ खेलों में भी प्रतिभाग कर उत्कृष्ठ प्रदर्शन करने पर ज़ोर दिया जा रहा है |उन्होने बताया कि खेल स्वास्थ्य और तंदरुस्ती को सुधारने और बनाए रखने, मानसिक कौशल और एकाग्रता स्तर के साथ ही सामाजिक और वार्तालाप या संवाद कौशल को सुधारने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। नियमित रुप से खेल खेलना एक व्यक्ति को बहुत सी बीमारियों और शरीर के अंगों की बहुत सी परेशानियों, विशेषरुप से अधिक वजन, मोटापा और हृदय रोगों से सुरक्षित करता है। बच्चों को कभी भी खेल खेलने के लिए हतोत्साहित नहीं करना चाहिए, बल्कि उन्हें प्रोत्साहित करना चाहिए।  गर्वित शर्मा व रोहन सेमवाल ने अपनी सफलता का श्रेय विद्यालय के प्रधानाचार्य, शिक्षक-शिक्षिकाओं तथा अपने अभिभावकों को दिया |

                 

Pariksha par charcha

On 29-01-2019 at 11 a.m the live show program ‘Pariksha par charcha’ was held at Jimp Pioneer School in which 129 Students, teachers and parents participated. The live show was shown in seminar hall through smartboard. In ‘Pariksha par charcha’ Hon’be Prime Minister Mr. Narendra Modi asked parents about steer clear of “unreal expectations from children”, Prime Minister Narendra Modi interacted with students and told them how to prepare for the examination. He told their parents that do not make students pressurize in their exam time and also said to the parents that make yourself stress free and treat your child as a friend .He said that students’ interest must be given importance and parents should not unfairly expect from wards to bear the burden of their unfulfilled dreams.

At the end Mr. Narendra Modi said they should not treat their children’s report card as their “visiting card”.

 

Republic Day Celebration

दिनांक 26 जनवरी 2019 को जिम्प पायनियर स्कूल के प्रांगण में गणतंत्र दिवस बड़े धूमधाम से मनाया गया । 70वीं वर्षगांठ का शुभारंभ विदयालय के प्रधानचार्य श्री जगदीश पांडे ने प्रात: 9.30 ध्वजारोहण करके किया | इसके बाद विद्यार्थियों ने राष्ट्रीय गान गाया | इस अवसर पर छात्र-छात्राओं, एन0 सी0 सी0 केडेटों ,शिक्षक शिक्षिकाओं व कर्मचारियों ने देश की आन-बान-शान की रक्षा का संकल्प लिया |विद्यार्थियों व शिक्षक-शिक्षिकाओं ने अनेकों सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए| श्री मुकेश मैठानी (अँग्रेजी के अद्यापक) ने कहा कि गणतंत्र दिवस को 26 जनवरी भी कहा जाता है जो कि हर साल मनाया जाता है ये दिन हर भारतीयों के लिये मायने रखता है क्योंकि इसी दिन भारत को एक गणतांत्रिक देश घोषित किया गया था साथ ही आजादी के लंबे संघर्ष के बाद भारतीयों को अपनी कानूनी किताब ‘संविधान’ की प्राप्ति हुई थी। 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ और इसके ढ़ाई साल बाद ये लोकतांत्रिक गणराज्य के रुप में स्थापित हुआ। वुमेन एंड चिल्ड्रेन हैल्थ एण्ड एजुकेशनल सोसाइटी की सदस्य श्रीमती प्रिया ने कहा कि प्रत्येक विद्यार्थी व शिक्षक-शिक्षिकाओं तथा ग्रामीणों को अपने आस-पास के क्षेत्र को साफ रखना चाहिए | कक्षा आठ के विद्यार्थियो ने ‘ए वतन’ गीत प्रस्तुत किया व कक्षा 9 वीं की छात्राओं ने अनेकों देशभक्ति गीतों में नृत्य प्रस्तुत किये | इस अवसर पर कक्षा 9वीं से 12वीं तक के विद्यार्थियो ने प्रभात फेरी निकाली व देशभक्ति के नारे लगाए| कक्षा 7 कि विद्यार्थी प्रियंका थापा ने कहा कि हम भारतवासियों का यह कर्तव्य है कि देश की रक्षा एवं अखण्डता के लिए हम अपना सब कुछ बलिदान कर दें । हमें प्रत्येक परिस्थिति में देश की रक्षा करनी चाहिए। यह सत्य है कि विभिन्नता में एकता भारतीय संस्कृति की विशेषता है । यही हमारे लोकतन्त्र के चिरस्थायी होने का महत्वपूर्ण आधार भी है । विदयालय के प्रधानचार्य श्री जगदीश पांडे ने कहा कि प्रत्येक पर्व का जीवन में बहुत बड़ा महत्त्व होता है । गणतंत्र दिवस जो कि हमारे संविधान के जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है, हमारे लिए बहुत बड़ा सदेश देता है । इसने देश के प्रत्येक नागरिक को समान अधिकार प्रदान किए हैं । देश को धर्म-निरपेक्ष, प्रभुता सम्पन्न राष्ट्र का स्वरूप प्रदान किया है इसलिए हमे इस पर्व की रक्षा के लिए सदैव कटिबद्ध रहना चाहिए जिससे हमारा लोकतंत्र सदैव अमर रहे । विद्यार्थियों विद्यालय में व्यापक सफाई अभियान चलाया | जिम्प पायनियर स्कूल के चेयरमेन श्री के0 एन0 जोशी जी ने प्रतिभाशाली विद्यार्थिकयों का सम्मान एवं पुरस्कार वितरण भी किया और कार्यक्रम का समापन मिष्ठान वितरण कर किया गया।

Vashudev Kutumb awarded the students

छात्र-छात्राओं के बीच ईमानदारी, निष्ठा, सच्चाई, करुणा, सहायता , प्रेम सम्मान, कड़ी मेहनत इत्यादि अच्छे गुणों को विद्यार्थियों के अंदर विकसित करने के लिए जिम्प पायनियर स्कूल दवारा नैतिक मूल्यों पर कार्यशाला का आयोजन किया गया। मुख्य अतिथि श्रीमती अंजली थापा ( मैनेजर-वासुदेव कुटुम्ब ) ने कहा कि छात्र-छात्राएं भारत का भविष्य हैं जिनमें अवलोकन की एक विशाल शक्ति होती है और उनकी भावनाएँ गहरी होती हैं इसलिए उनके जीवन को उजागर करने में उनके माता- पिता व गुरुजनों का साथ होना आवश्यक हैं अतः विद्यार्थियो को अच्छे विचारों को ग्रहण करना चाहिए तथा महान व्यक्तियों से शिक्षा लेनी चाहिए | विध्यार्थियों को पढ़ाई की ओर अपना ध्यान लगाना चाहिए और उसके साथ-साथ अपनी सेहत का ध्यान भी रखना चाहिए | प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडेय ने मोरल वैल्यूज़ कार्यशाला में कहा कि आज के व्यस्त जीवन में माता-पिता व शिक्षक को संयुक्त प्रयास कर विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास में कार्य करना चाहिए |राजा राम शर्मा (कंप्यूटर -इंजीनियर) व नीलम चौधरी( सदस्य-वासुदेव कुटुम्ब ) ने इस अवसर पर बताया कि परिवार वह नींव है जिस पर मूल्यों का निर्माण होता है तो सदैव माता- पिता को अपना उच्च आचरण अपने बच्चों के सामने प्रस्तुत करना चाहिए |अंत में वासुदेव कुटुम्ब संस्था द्वारा दी गयी स्व -विकास डायरी के अनुसार उत्तम कार्य करने वाले दस विध्यार्थियों को एक-एक हजार रुपये का पुरस्कार प्रदान किया| चैक प्राप्त करने वाले विध्यार्थियों के नाम निम्नलिखित हैं– नाम कक्षा धनराशि रजनीश कुमार सिंह 6 1000/- सूरज सिंह 6 1000/- विशाल शर्मा 6 1000/- निखिल भट्ट 7 1000/- प्रीयल राठोर 6 1000/- भव्या 7 1000/- अवनीश सेमवाल 7 1000/- गरिमा जोशी 6 1000/- अतुल कुमार 6 1000/- साक्षी 7 1000/- कार्यशाला में शिक्षका मंजीत भारद्वाज व कक्षा 6 व 7 के सभी छात्र- छात्राओं ने भाग लिया।

Kumaon Sanskriti Sanrakshan Program

कुमाऊँ संस्कृति संरक्षण समिति और जिम्प पायनियर स्कूल द्वारा मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर दिनांक 14 जनवरी 2019  को अपनी संस्कृति को बचाये रखने हेतु सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया | इस अवसर पर सामूहिक नृत्य, गीत, गायन, प्रतिभाशाली व्यक्ति, युवा महिलाओं व आमा, बडबाजू को सम्मानित किया गया | कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि माननीय श्री शिव प्रसाद देवली जी, अति विशिष्ट अतिथि श्री गोविंद सिंह गुसाई जी और जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडे द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया |

इस अवसर पर निम्नलिखित सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया गया –

  1. कुमाऊँनी गीत
  2. जय मैया दुर्गा भवानी
  3. ओ परुली ईज़ा
  4. लाली हो लाली
  5. हाय तेरी रुमाला
  6. नेपाली डांस – हांग कांग को साड़ी
  7. ओ भिना कसके जानू द्वारहाटा
  8. Song विनोदिनी पांडे
  9. गढ़वाली डांस – नन्द मामा की साली

10.छलिया डांस

11.कुमाऊनी गीत नैन स्दोप – कमला बिष्ट

12.गढ़वाली जागर -शिवजी कैलाश

  1. funny Job Interview

14.नेपाली गीत (दीपा रावत)

  1. गढ़वाली- चित चोरी
  2. सुन ले दगड़िया – श्रीमति कृष्णा चौहान
  3. काम की न काज की
  4. हाय ककड़ी झिलमा
  5. तेरी रंगोली पीछोड़ -कमला बिष्ट
  6. चाचरी-मार झपाका सिलेगौरी

जिम्प पायनियर स्कूल के विद्यार्थियों व कुमाऊँ संरक्षण समिति के सभी सदस्यो ने अपने कार्यक्रमों द्वारा कुमाऊँ की संस्कृति को बखूबी प्रस्तुत किया | संगीत कुमाऊँ संस्कृति का एक अभिन्न अंग है। जिसमें “बेडू पाको”राज्य का अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त एक प्राचीन लोक गीत है।

जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडे ने कहा कि कुमाऊँ संस्कृति न केवल उत्तराखंड की खूबसूरती को दर्शाती हैं अपितु भारत कि सुंदरता एवं उसकी लोकप्रियता को राष्ट्रीय स्तर पर पहुचाने का प्रयास करती है उन्होने कहा कि आजकल की पीढ़ी अपनी संस्कृति को भूलती जा रही है और अलग ही दिशा की ओर बढ़ रही है जैसे कि नशे की ओर , मोबाइल का अधिक इस्तमाल आदि उनके पास अपने परिवार से बात करने तक का समय नहीं होता | आज की पीढ़ी को अपने संस्कृति से जोड़ने के लिए यह कार्यक्रम एक माध्यम हैं| आज के विज्ञान के युग में लोक परम्पराएं लुप्त होती जा रही है। यद्यपि इन परम्पराओं का आधार वैज्ञानिक रहा है किन्तु इनको कुछ लोगों ने आजीविका का साधन बना लिया है। आज की तरह प्राचीन समय में इलाज के लिए मरीजो को डोली में ले जाया करते थे। यातायात के साधन नहीं थे। लोग एक-दूसरे के सुखःदुख में भागीदारी करते थे। कोई बीमार होता था तो लोग रात भर जाग कर उसका साथ निभाते थे | ठण्ड से बचने के लिए साधन नहीं थे तो वे घर के बाहर धूनी जलाकर आग सेंकते थे। दुःख बांटने के लिए गांव का ही कोई लोकगायक लोकगाथा गाता था। परंतु वो परंपरा अब पूर्णतया खत्म हो चुकी है | अतः इस पीढी को अपने संस्कृति के प्रति जागरुक करने व अपनी परम्पराओ से अवगत कराने के लिए “कुमाऊँ संस्कृति संरक्षण समिति व जिम्प पायनियर स्कूल” ने मकर संक्रांति के शुभ अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया |
मुख्य अतिथि माननीय श्री शिव प्रसाद देवली जी ने कहा कि पहले गांव के सयाने बुजुर्ग का सब लोग सम्मान करते थे और उन्हे देवताओ के रूप में पूजते थे। अपनी श्रद्धा व परम्परा के अनुसार लोग देवी-देवताओं की जागर लगाकर उनसे अपने दुःख निवारण की प्रार्थना करते थे। कुमाऊँ की सामाजिक परम्परा में कृषि कार्य को सामूहिक रूप से करने किया जाता था। रोपाई तथा गुड़ाई के समय गांव की महिलाएं समूह में एक परिवार के खेत में एक साथ कार्य करते थे। महिलाओं के साथ लोकगायक हुड़के की थाप पर लोकगाथा गाते थे | महिलाएं भी बीच-बीच में कार्य करते हुये गाना गाती थी | इससे कार्य जल्दी होता था तथा थकावट नहीं आती थी लेकिन धीरे धीरे हमारी संस्कृति समाप्त होती जा रही हैं उसे बचाने हेतु ऐसे सांस्कृतिक कार्यक्रम अहम भूमिका निभाते हैंकार्यक्रम में कुमाऊँ संस्कृति संरक्षण समिति के अध्यक्ष श्री उर्वादत्त पाण्डेय, सचिव श्री गोविंद सिंह रावल , उपाध्यक्ष श्री जगदीश सिंह बोरा व कुमाऊँ संस्कृति संरक्षण समिति  के सदस्य यू0 डी0 पांडे, जे0 एस0 बोरा, जी0 एस0 रावल ,एन0 डी0 पांडे ,एम0 एस0 बिष्ट, एम0 एस0 दानु, एम0 एस0 दर्मवाल, आर0 एस0 राणा, उदय सिंह मनोला, प्रेम सिंह बोरा, दीवान सिंह बोरा , बुद्धिबल्लभ जोशी, एच0 सी0 दिवेदी, बहादुर सिंह , कैलाश सजवान, भूपालकीरला, चकर चंद उपस्थित थे | कार्यक्रम के अंत में जिम्प पायनियर स्कूल के विद्यार्थियो व कुमाऊँ संस्कृति संरक्षण समिति के सदस्यो को पुरस्कृत किया गया |

 

 

“Nashamukt Rashtra ka Nirmaan” an awareness Program done by NCC cadets

जिम्प पायनियर स्कूल पीतांबरपुर ,आर्केडिया-ग्रांट देहरादून के एनसीसी केडेटों ने आर्केडिया-ग्रांट ,प्रेमनगर क्षेत्र में घर-घर जाकर लोगों व युवाओं को नशीले पदार्थों से दूर रहकर अपनी ऊर्जा राष्ट्र निर्माण में लगाने के लिए जागरूक किया |उन्होने बताया कि संघर्ष को मानव जीवन का दूसरा नाम कहा जाता है। इसी संघर्ष से व्यक्ति कुंदन की तरह शुद्ध और पवित्र बन जाता है जिन लोगों का निश्चय सुदृढ नहीं होता है वे संघर्ष के आगे घुटने टेक देते हैं और नशा करने लग जाते हैं । नशा करने से दुखों और कष्टों से मुक्ति नहीं मिलती है| मादक पदार्थों के प्रभाव से व्यक्ति अपनी अनुभूतियों ,समवेदनाओं तथा भावनाओं के साथ-साथ सामान्य समझ-बूझ और सोचने विचारने की क्षमता खो देता है | इस अवसर पर जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने बताया कि नशे से लड़ने के लिए पारिवारिक एवं सामाजिक सामूहिक संकल्प की आवश्यकता है |