बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ

दिनांक 31-12-2016 को पूर्व निर्धारित कार्यक्रमानुसार जनता इंटरमीडिएट  कालेज ,नया गाँव ,मल्हान शिमला बाइ पास रोड ,देहरादून के प्रांगण में प्रात: 11:00  बजे जिम्प पायनियर स्कूल के विध्यार्थियों द्वारा “बेटी बचाओ बेटी पड़ाओ” जागरूकता  अभियान कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया|इस कार्यक्रम का उद्घाटन  मुख्य अतिथि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष देहरादून श्री शिव प्रसाद देवली  व विशिष्ट अतिथि महावीर सिंह राणा जिला अध्यक्ष भूतपूर्व सैनिक संगठन देहरादून द्वारा किया गया |इस अवसर पर कक्षा 10 के छात्र सौरभ गौड़ ,कार्तिक शर्मा,अभिषेक चौधरी ,निकिता जोशी,नंदिनी भट्ट , अंजली बिष्ट आदि ने अपने विचारों में कहा कि “ लड़कियां  किसी भी क्षेत्र में लड़कों की तुलना में कम सक्षम नहीं है वह अपना सर्वश्रेष्ठ देती हैं। लड़कियाँ लड़कों की तुलना में अधिक आज्ञाकारी, कम हिंसक और अभिमानी साबित हो चुकी है,वो अपने परिवार, नौकरी, समाज या देश के लिए ज्यादा जिम्मेदार साबित हो चुकी हैं ,वो अपने माता-पिता की और उनके कार्यों की अधिक परवाह करने वाली होती है। एक महिला माता, पत्नी, बेटी ,बहन आदि होती है। प्रत्येक को ये सोचना चाहिये कि उसकी पत्नी किसी अन्य आदमी का बेटी है और भविष्य में उसकी बेटी किसी और की पत्नी होगी। इसलिये प्रत्येक को महिलाओं के हर एक रुप का सम्मान करना चाहिये।एक लड़की अपनी जिम्मेदारियों के साथ-साथ अपनी पेशेवर जिम्मेदारियों को बहुत वफादारी से निभाती है जो इन्हें लड़कों  से अधिक विशेष बनाती है। लड़कियाँ मानव जाति के अस्तित्व का परम कारण है।“

 

इस अवसर पर जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पांडे ने अपने विचारों में कहा कि “बेटी बचाओ अभियान को लोगों को सिर्फ एक विषय के रुप में नहीं लेना चाहिये, ये एक सामाजिक जागरुकता का मुद्दा है जिसे गम्भीरता से लेने की जरुरत है। लोगों को लड़कियों को बचाना और सम्मान करना चाहिये क्योंकि वो पूरे संसार का निर्माण करने की शक्ति रखती है। वो किसी भी देश के विकास और वृद्धि के लिये समान रुप से आवश्यक है।“

 

जिम्प पायनियर स्कूल के कक्षा 11 के विद्यार्थियों पूजा बिष्ट ,पूजा नेगी,निकिता नौडियाल ,रितिका चमोली,रिया चंद, ने एक गीत  “पतवार बनूँगी लहरों से लड़ूँगी …………………………….. ”   पर नृत्य प्रस्तुत किया जिसे देखकर उपस्थित सभी ग्रामवासी ,जनता इंटर कॉलेज के छात्र व अभिभावक  काफी भावुक हो गए । इसमें बेटियों के जीवन की कई सच्चाइयों को नृत्य के माध्यम से मंच पर उजागर किया। इसमें दर्शाया गया कि एक लड़की माँ के गर्भ में साथ ही साथ बाहर भी असुरक्षित है। वो जीवन भर उन पुरुषों के माध्यम से कई मायनों में भयभीत रहती है जिसने उन्हें जन्म दिया है। जिस पुरुष को उसने जन्म दिया है वो उससे शासित होती है और जो हमारे लिये बहुत हास्यास्पद और शर्मनाक है। कन्याओं को बचाने और उनके सम्मान को बनाने के लिये, शिक्षा सबसे बड़ी क्रान्ति है।जिसे देखकर दर्शकों की आंखों में आंसू आ गए।

कार्यक्रम के अन्त में कक्षा 11 के छात्र-छात्राएं कृतिका जोशी ,मनस्वी सती,शादाब ,अर्चना चंडोला आँचल बिष्ट,ईशा थापा,हिमानी नेगी कक्षा 10 के छात्र-छात्राएं माया मेहरा ,राधिका महर,  व कक्षा 9  के  स्वाति, सलोनी कक्षा 5 के प्रियंका, साक्षी, सुमन ,विध्यार्थियों ने संयुक्त रूप से कन्या भ्रूण हत्या पर एक नाटक प्रस्तुत किया इस नाटक के माध्यम से बच्चों ने बताया कि समाज में  पढ़े लिखे लोग सबसे अधिक बेटी बचाओ व बेटी पड़ाओ के अभियान के बारे में  जागरूकता फैला सकते हैं   भारतीय नारी में करूणा, दया और ममत्व के गुण हैं। बेटियां हमारे देश की बहुत बड़ी ताकत है, वे राष्ट्र की पूंजी है। नाटक में पति-पत्नी व सरस्वती,दुर्गा,काली,लक्ष्मी माता का वार्तालाप दर्शकों की आंखों को नम कर देता है।

 

मुख्य अतिथि पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष देहरादून श्री शिव प्रसाद देवली  ने  अपने विचारों  में  कहा कि इस तरह के जन जागरूकता अभियानों का मंचन स्कूलों, कालेजों और अन्य संस्थानों व प्रत्येक ग्राम पंचायतों पर बड़े स्तर पर  किया जाना चाहिए। जिससे ‘बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ’ के संदेश को और विस्तार मिल सके।

विशिष्ट अतिथि ने कहा कि एक बेटी से नफरत, मृत्यु या अपमान नहीं किया जाना चाहिए। समाज और देश की भलाई के लिए उसे सम्मानित और प्यार किया जाना चाहिए। वो लड़कों की तरह की देश के विकास में समान रुप से भागीदार है।

श्री खेम चंद गुप्ता प्रदेश संयोजक भारतीय जनता पार्टी उत्तराखंड  ने कहा कि दहेज प्रथा जैसी सामाजिक  बुराईयों से बचने के लिए कन्या भ्रूण हत्या हो रही है इससे निपटने के लिये महिलाओं को सशक्त होना चाहिये।

कार्यक्रम दोपहर 2.30 बजे तक चला |

dsc08987 dsc08988 dsc08989 dsc08990 dsc08991 dsc08992 dsc08993 dsc08994 dsc08995 dsc08996 dsc08997 dsc08998 dsc08999 dsc09000 dsc09001 dsc09002 dsc09003 dsc09004 dsc09005 dsc09006 dsc09008 dsc09009 dsc09010 dsc09011 dsc09012 dsc09013 dsc09014 dsc09015 dsc09016 dsc09017 dsc09018 dsc09019 dsc09020 dsc09021 dsc09022 dsc09023 dsc09024 dsc09025 dsc09026 dsc09027 dsc09028 dsc09029 dsc09030 dsc09031 dsc09032 dsc09033 dsc09034 dsc09035 dsc09036 dsc09037 dsc09038 dsc09039 dsc09040 dsc09041 dsc09042 dsc09043 dsc09044 dsc09045 dsc09046 dsc09047 dsc09048 dsc09049 dsc09050 dsc09051 dsc09053 dsc09054 dsc09056 dsc09057