धूम्रपान के दोष में भाषण प्रतियोगिता

जिम्प पायनियर स्कूल ग्राम पीतांबरपुर,आर्केडिया-ग्रांट देहरादून में दिनांक 20-05-2017 को “ धूम्रपान के दोष “विषय पर कक्षा 1 से कक्षा 12 तक के विध्यार्थियों में भाषण प्रतियोगिता का कक्षावार आयोजन किया गया| इस प्रतियोगिता में कक्षा 1 से कक्षा 12 तक के विध्यार्थियों ने भाग लिया| वक्ताओं ने वर्तमान समय में नशे की बढ़ती प्रवृत्ति पर चिंता जताते हुए जनजागरूकता पर जोर दिया। विध्यार्थियों ने अपने भाषणों में कहा कि विध्यार्थियों व युवाओं को नशे से दूर रहकर समाज को बेहतर बनाने व राष्ट्र निर्माण में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करनी चाहिए |

इस अवसर पर जिम्प पायनियर स्कूल के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने कहा कि प्रत्येक  माता- पिता को अपनी दैनिक व्यस्त दिनचर्या से कुछ समय अवश्य निकालकर अपने बच्चों के साथ समय बिताना चाहिए व उनकी छोटी-छोटी  उपलब्धियों पर भी गर्व करना चाहिए और बच्चों में आत्मविश्वास जगाना चाहिए | प्रत्येक माता-पिता को चरित्र निर्माण में अपने बच्चे की मदद करनी चाहिए ,स्वयं अपने बच्चों के लिए आदर्श बनना चाहिए | एक स्वस्थ जीवन शैली के लिए अपने बच्चों को प्रोत्साहित करना चाहिए तथा  अपने अवगुणों का त्याग करना चाहिए | अपने बच्चों पर अनुचित अपेक्षाओं का भार कभी नहीं डालना चाहिए व  इस बात का ज्ञान रहना चाहिए कि  माता-पिता का कर्तव्य कभी समाप्त नहीं होता|

मुख्य अतिथि श्री विनोद पँवार पार्षद प्रेमनगर केण्टोंमेंट एरिया देहरादून ने विध्यार्थियों को नैतिक मूल्यों पर बोलते हुए कहा कि सभी  विध्यार्थी अपने अंदर अच्छे संस्कार विकसित करें |  विश्व बंधुत्व की भावना, मानवतावाद, समता भाव, प्रेम और त्याग जैसे नैतिक गुणों के द्वारा ही विश्व शांति, अंतर्राष्ट्रीय सहयोग, मैत्री आदि की कल्पना की जा सकती है | कर्तव्यपरायणता  की  सीख सभी विध्यार्थी  हमारे देश की सेना के जवानों से ले सकते हैं।  जिस तरह वह सीमाओं की रक्षा के लिए अपना सर्वस्व न्योछावर कर देते हैं, उसी तरह हमें भी देश के विकास के लिए अपना योगदान करना चाहिए।

तत्पश्चात कक्षा में प्रथम, द्वितीय, तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले निम्न विध्यार्थियों को मुख्य अतिथि द्वारा पुरस्कार दिये गए :-

Date: 15/05/2017

Spellathon Competition –  Class K.G.

  1. Viraj Bohra

  2. Sonakshi Negi

  • Sonu Saha

 

Date: 18/05/2017

Topic- धूम्रपान के दोष (भाषण प्रतियोगिता)

Class-I

  1. Kishan Singh

  2. Parul Yadav

  • Ashish Baliyan

Class-II

  1. Aditya Rawat

  2. Yogendra Negi

  • Vaibhavi Sopan Rodde

 

Class-III

  1. Kanika Semwal

  2. Harshit Farswan

  • Upasak Shankar Chamoli

Class-IV

  1. Kirti Chaubey

  2. Archit Pandey

  • Manisha Farswan

Class-V

  1. Prafull Pandey

  2. Vaishnavi Saini

  • Preeyal Rathore

Class- VI

  1. Kunal Mehta

  2. Mohit Joshi

  • Avnish Semwal

Class- VII

  1. Nishita Joshi

  2. Anshika THapa

  • Akriti Rawat

Class-VIII

  1. Nishchey Joshi

  2. Sourabh Rawat

  • Shweta Mamgain

Class- IX A

  1. Diksha Rajput

  2. Himanshu Badoni

  • Manish Arya

Class-IX B

  1. Yashika Keshwan

  2. Priyanshu Kanojia

  • Suraj Negi

Class-X

  1. Aparna Painuly

  2. Diksha Khanduri

  • Shivani Sharma

Class- XII Science

  1. Priya Passi

  2. Shilpa Uniyal

  • Himani Negi

Class- XII Commerce

  1. Nisha Mehta

  2. Nikita Naudiyal

  • Ritika Chamoli

dsc00940 dsc00941 dsc00942 dsc00943 dsc00944 dsc00945 dsc00947 dsc00948 dsc00949 dsc00950 dsc00952 dsc00953 dsc00954 dsc00955 dsc00956 dsc00957 dsc00958 dsc00959 dsc00960 dsc00961 dsc00962 dsc00964 dsc00965 dsc00966 dsc00967 dsc00968 dsc00969 dsc00970 dsc00971 dsc00972 dsc00974 dsc00975

dsc00980 dsc00981 dsc00982 dsc00983 dsc00984 dsc00985 dsc00986 dsc00987 dsc00988 dsc00989 dsc00991 dsc00992 dsc00993 dsc00994 dsc00997 dsc00998 dsc00999 dsc01000 dsc01001 dsc01002 dsc01004 dsc01005 dsc01007 dsc01008 dsc01009 dsc01010 dsc01011 dsc01012 dsc01013 dsc01014 dsc01016 dsc01017 dsc01018 dsc01021 dsc01022 dsc01023 dsc01024 dsc01025 dsc01026 dsc01028 dsc01030 dsc01031dsc00977

Rakhi Making Program

दिनांक 05 अगस्त 2017 को जिम्प पायनियर स्कूल में रक्षाबंधन के अवसर पर विध्यार्थियों द्वारा राखी बनाने की प्रतियोगिता का आयोजन किया गया | इस प्रतियोगिता में कक्षा 1 से कक्षा 12 तक के विध्यार्थियों ने भाग लिया| विध्यार्थियों ने विभिन्न रंगों एवं सूत्र से आकर्षक राखियाँ बनाई   | यह प्रतियोगिता चार सदनों में कराई गयी| इस अवसर पर विध्यालय में बच्चों के अभिभावकों को भी आमंत्रित किया गया और उन्होने भी बच्चों को काफी प्रोत्साहित किया |

इस अवसर पर विध्यालय के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने कहा कि  “आज हमें सृष्टि को बचाने की आवश्यकता है इस लिए राखी के इस पवित्र पर्व पर हम सभी एकजुट होकर सृष्टि को बचाने का संकल्प लें ,राखी की  तागेरूपी एक स्नेह की डोर को एक वृक्ष पर बाँधें और उस वृक्ष की रक्षा की ज़िम्मेदारी अपने ऊपर लें |”

विध्यालय के अध्यक्ष श्री के एन जोशी ने कहा कि राखी का यह पर्व भाई-बहन के स्नेह के साथ-साथ हर सामाजिक सम्बन्धों को मजबूत करता है | आज जब हम बुजुर्ग माता – पिता को सहारा  ढूंढते हुए वृ्द्ध आश्रम जाते हुए देखते हैं , तो अपने विकास और उन्नति पर प्रश्न चिन्ह लगा हुआ पाते हैं| इस समस्या का समाधन राखी पर माता-पिता को राखी बांधना, पुत्र-पुत्री के द्वारा माता पिता की जीवन भर हर प्रकार के दायित्वों की जिम्मेदारी लेना हो सकता है| इस रक्षाबंधन पर्व पर स्वदेशी धागे से बनी राखी का प्रयोग करे, इस प्रकार समाज की काफी समस्याओ का सामाधान हो सकता है|

कार्यक्रम के अंत में प्रतियोगिता में विजयी विध्यार्थियों को पुरस्कार दिये गए |

dsc02218 dsc02239 dsc02261 dsc02264 dsc02267 dsc02275 dsc02277 dsc02279 dsc02123 dsc02125 dsc02130 dsc02132 dsc02136 dsc02152 dsc02153

dsc02216 dsc02218 dsc02219 dsc02221 dsc02224 dsc02225 dsc02226 dsc02227 dsc02229 dsc02230 dsc02233 dsc02234 dsc02235 dsc02236 dsc02238 dsc02239 dsc02241 dsc02242 dsc02243 dsc02244

इंग्लिश लेखन प्रतियोगिता

जिम्प पायनियर स्कूल ,ग्राम-पीतांबरपुर,आर्केडिया-ग्रांट, देहरादून में दिनांक 06-05-2017 को कक्षा 1 से कक्षा 10 तक के विध्यार्थियों को सम्मानित गया | जिम्प पायनियर स्कूल में कक्षा 1 से कक्षा 10 तक के विध्यार्थियों में कक्षावार इंग्लिश सुलेख कार्यक्रम का आयोजन दिनांक 29-04-2017 को किया गया था | कार्यक्रम संयोजक मिस कल्पना सजवान ने बच्चों को सुलेख के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि यदि आपकी लेखनी सुंदर है तो अपनी हर परीक्षा में अच्छे अंक अर्जित कर सकते हैं। इस अवसर पर विध्यालय के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने कहा कि  सुंदर लिखाई के आधार पर ही आप दूसरों के चेहेते बन जाते हैं और आपकी कार्यकुशलता भी बढ़ जाती है। बीते समय में सुलेख बनाने के लिए तख्तियां लिखने पर जोर दिया जाता था। आज के समय में पेन से लिखा जाता है। आने वाले समय में कंप्यूटर युग के कारण लेखन का कार्य ही खत्म हो गया है। इस अवसर पर कक्षावार प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान प्राप्त करने वाले विध्यार्थियों को सम्मानित किया गया|

earth-day dsc00842 dsc00843 dsc00844 dsc00845 dsc00846 dsc00847 dsc00848 dsc00849 dsc00850 dsc00851 dsc00852 dsc00853 dsc00854 dsc00855 dsc00856 dsc00857 dsc00858 dsc00859 dsc00860 dsc00861 dsc00862 dsc00863 dsc00864 dsc00865 dsc00866 dsc00867 dsc00868 dsc00869 dsc00870 dsc00871 dsc00872 dsc00873 dsc00874 dsc00875 dsc00876 dsc00877 dsc00878 dsc00879 dsc00880 dsc00881 dsc00882 dsc00883 dsc00884 dsc00885 dsc00886 dsc00887 dsc00888 dsc00889 dsc00890

इंडियन इंटेलिजेंस टेस्ट 2017

दिनांक 05-05-2017 को कक्षा 5 से कक्षा 10 तक के विध्यार्थियों की क्षमता परखने और उनका रुझान जानने के लिए इंडियन इंटेलिजेंस टेस्ट का आयोजन किया गया|
विध्यालय के 6 से 10 वीं कक्षा तक के छात्र इस टेस्ट में शामिल किया गया। अवसर पर विध्यालय के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने कहा कि यह टेस्ट उन छात्रों के लिए खास तौर पर कारगर है जो अपने भविष्य की योजना को लेकर दुविधा में रहते हैं।

dsc00833 dsc00830 dsc00836 dsc00837 dsc00834 dsc00831 dsc00832 dsc00835 dsc00829

जीवन मूल्यों की शिक्षा देने हेतु एक वर्कशॉप

जिम्प पायनियर स्कूल, पीतांबरपुर, प्रेमनगर, देहरादून में दिनांक 04-05-2017 को विध्यार्थियों को सत्यता, ईमानदारी, प्रसन्नता, विनम्रता, परोपकार, दया, समय का पालन, त्याग ,आज्ञाकारी, देशभक्ति, प्रकृति से प्रेम, क्षमा, गुरुजनों, बुजुर्गों एवं अतिथियों का सम्मान करना आदि जीवन मूल्यों की शिक्षा देने हेतु एक वर्कशॉप आयोजित की गयी| इस वर्कशॉप में कक्षा 5 से कक्षा 8 तक के सभी छात्र-छात्राओं ने भाग लिया| इस वर्कशॉप में विध्यालय के अध्यापक-अध्यापिकाओं के अतिरिक्त श्रीमती हांडु (अवकाश प्राप्त प्रधानाचार्या के0वी0 ओएनजीसी), श्रीमती कोमल बी सिंह (अवकाश प्राप्त हैड मिस्ट्रेस व अँग्रेजी अध्यापिका के0 वी0 एफआरआई ), अंजलि थापा शिक्षिका ने भाग लिया तथा विध्यार्थियों को जीवन मूल्यों का महत्व समझाया|सभी विध्यार्थियों को स्व0 विकास डायरियाँ वितरित की गयी व देश के महापुरुषों के जीवन से संबन्धित प्रश्न पुछे गए ,सही उत्तर देने वाले विध्यार्थियों को पुरस्कार दिये गए| मुख्य अतिथि श्री ए0 के0 मेहरा (अवकाश प्राप्त एग्जेकुटिव डायरेक्टर ओ0एन0जी0सी0) ने कहा कि एक आदर्श परिवार या देश के संचालन हेतु परिवार के सभी सदस्यों, या देश के सभी नागरिकों में शिष्टाचार, सदाचार, त्याग, मर्यादा, अनुशासन, परिश्रम की आवश्यकता है, यदि जीवन में शिष्टाचार, सदाचार, अनुशासन, मर्यादा है तो परिवार और देश में शांति रहेगी, यदि परिवार या राष्ट्र में स्वार्थ लोलुपता, पद लोलुपता बनी रहेगी तो परिवार भी टूटेगा, राष्ट्र भी भ्रष्टाचार से प्रदूषित होता रहेगा| इसलिए अहंभाव त्यागकर, स्वार्थ त्यागकर, प्रलोभनों से दूर रहकर अपने व्यक्तिगत जीवन में विनम्रता, त्याग, परोपकार को जीवन में स्थान देना होगा तभी हम एक आदर्श परिवार का सृजन कर सकते हैं, एक आदर्श और खुशहाल राष्ट्र का स्वप्न साकार कर सकते हैं| इस अवसर पर विध्यालय के प्रधानाचार्य श्री जगदीश पाण्डेय ने कहा “आज के बच्चे ही कल के भविष्य हैं, अतः शिक्षा के साथ साथ नैतिक मूल्यों को जीवन में स्थान दें, हम हर कार्य अपनी अंतरात्मा एवं उच्च आदर्शों को ध्यान में रखकर करें| परिवार बच्चों की प्रथम पाठशाला है अतः हर माता-पिता को स्वयं का आचरण शुद्ध सरल-पवित्र, मर्यादापूर्ण रखना चाहिए, आज जो संस्कार बच्चों में स्थापित होंगे वो ही आगे चलकर देश और समाज के, परिवार के विकास में सहायक होंगे|

 

dsc00797 dsc00798 dsc00799 dsc00800 dsc00801 dsc00802 dsc00803 dsc00804 dsc00805 dsc00806 dsc00808 dsc00809

dsc00810 dsc00813 dsc00814 dsc00816 dsc00817 dsc00818 dsc00819 dsc00822 dsc00823 dsc00824 dsc00825 dsc00826 dsc00827 dsc00828 dsc00895 img_20170503_125143 img_20170503_125154